Monday, 28 March 2016

इंतज़ार



तेरे इंतज़ार के सफर में 
यादें मील के पत्थर बनती गयीं 
ना सफर मुकम्मल हुआ 
ना यादों का सिलसिला रूका। 

(गूगल से साभार)