Sunday, 16 July 2017

तुस्सी रियली रियली ग्रेट हो यार

तुस्सी रियली रियली ग्रेट हो यार



ये मानव जीवन की विडंबना ही है कि उसके मन में पुरातन के प्रति खासा रोमान होता है और स्थापित के प्रति अत्यधिक आग्रह,जबकि परिवर्तन उसके जीवन का शाश्वत सत्य होता है।यही विरोधाभास द्वन्द का आकार लेता है,पुराने और नए के बीच का द्वन्द-अपने को स्थापित करने का और अपने को साबित करने का।पुराने के पास अनुभव होता है,उसकी जड़े गहरी होती हैं। नए में वेग होता है,जोश होता है। नया पुराने को विस्थापित कर खुद को स्थापित करने की लगातार चेष्टा करता रहता है तो पुराना अपनी जगह स्थापित रहने के लिए नए का लगातार प्रतिरोध करता रहता है। संघर्ष लगातार चलता रहता है और एक समय आता है जब नया पुराने को विस्थापित कर खुद स्थापित कर देता है। फिर कुछ और नया आता है और इस तरह ये द्वन्द लगातार चलता रहता है। जीवन के हर क्षेत्र में और निसंदेह खेल में भी। आज आल इंग्लैंड क्लब के सेंटर कोर्ट में भी कुछ ऐसे ही जबरदस्त संघर्ष की उम्मीद थी। नए और पुराने के बीच। अनुभव और जोश के बीच। लेकिन ये एंटी क्लाइमेक्स था। 
*******
आज जब आल इंग्लैंड क्लब के सेंटर कोर्ट पर पुरुषों के फाइनल के लिए 35 वर्षीय रोजर फेडरर और  28 वर्षीय मारिन सिलिच जब मैदान में उतरे तो निसंदेह अधिकाँश खेल जानकार और खेल प्रेमी फेडरर की जीत के प्रति आग्रही ही नहीं बल्कि आश्वस्त भी थे। इसके अपने कारण भी थे जिनके चलते ऐसा होना स्वाभाविक था। पिछले साल विंबलडन में चोट के बाद वे कॉम्पटीटिव टेनिस से दूर रहे,फिटनेस पर ज़बरदस्त काम किया और तरोताज़ा होकर ऑस्ट्रेलियाई ओपन में शानदार जीत हासिल की। उसके बाद वे जानते थे कि क्ले कोर्ट उनका फोर्टे नही है, यहां शक्ति जाया करना बेकार है,इसलिए उन्होंने फ्रेंच ओपन छोड़ दिया। । उन्होंने इस समय का उपयोग विंबलडन की तैयारी में लगाया और फिटनेस पर ध्यान दिया। जिस तरह की टेनिस इन दिनों वे खेल रहे थे निसंदेह वे सबसे प्रबल दावेदार थे। हालांकि फैबुलस फोर के बाकी तीन भी उतने बड़े दावेदार थे। लेकिन बाकी तीन और फेड में जो अंतर था वो फिटनेस का था। जब मरे,जोकोविच और राफा खराब फिटनेस और चोट के चलते एक एक करके हारते चले गए तब एक फेड ही ऐसे थे जो अपनी फिटनेस और फॉर्म के चलते शानदार तरीके से जीत दर्ज़ करते जा रहे थे।लेकिन यकीं मानिये जब सब फेड पर दांव लगा रहे थे तो कुछ ऐसे भी लोग थे जो नए की तरफ बड़ी आस से टकटकी लगाए थे।कुछ लोग इस उम्मीद से भरे बैठे थे कि पिछले 15 सालों से विंबलडन के सेंटर कोर्ट पर फैबुलस 4 के चले आ रहे वर्चस्व को कभी तो चुनौती दी जा सकेगी। वे इस उम्मीद से भरे बैठे थे कि वो कभी शायद आज हो।और ये आस यूँ ही नहीं थी। इसके पीछे अपने तर्क थे। सिलिच ने इस पूरी प्रतियोगिता में शानदार खेल दिखाया था। भले ही फेड के खिलाफ उनका रेकॉर्ड 1-6 का हो,लेकिन आखरी दो मैच उनकी जीत की संभावना को जगाते थे। 2014 के यूएस ओपन के सेमीफाइनल में फेड को हराया था और पिछले साल यहीं विंबलडन में वे लगभग जीत ही गए थे। वे पहले दो सेट जीत चुके थे और चौथे सेट में तीन मैच पॉइंट उनके पास थे। तब भी हार गए। शायद उनका दिन नहीं था वो। कुल मिलाकर कड़े मुकाबले की तो उम्मीद की जा रही थी ही। 

********
एक ऐसे मैच में जिसमे कड़े संघर्ष की उम्मीद की जा रही थी,ऐसे संघर्ष की जो इस साल के ऑस्ट्रेलियाई ओपन के फाइनल वाली ऊंचाइयों को छुए,सब कुछ उम्मीद के उलट हुआ। सिलिच ने शुरुआत बेहतर की 2-2 की बराबरी की पर तीसरे ही गेम में सर्विस तुड़वा बैठे और उसके बाद दो बार और। सेट हारे 3-6 से। दूसरे सेट में 0-3 से पिछड़ गए। यहां पर उन्हें मेडिकल ऐड की ज़रुरत पडी। खेल बीच में ही ख़त्म हुआ चाहता था। सिलिच ने हिम्मत दिखाई, मैच पूरा करने की औपचारिकता की। फेड ने 6-3,6-1,6-4 से मैच जीता। आठवीं बार विम्बलडन और 19वां ग्रैंड स्लैम खिताब जीतकर इतिहास के पन्नों में अमर हो गए सार्वकालिक महानतम एथलीट के रूप में।
********
ये एक ऐसी जीत थी जिसे शायद फेड भी पसंद नहीं करेंगे। लेकिन खेल में ऐसा होता है। फिटनेस आधुनिक खेलों का आवश्यक अंग है। अगर आपको जीतना है,अव्वल रहना है तो फिट रहना ही होगा। इस उपहार में मिली जीत से फेड की महानता पर कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता। जैसे राफा क्ले कोर्ट के बेताज बादशाह हैं,ग्रास कोर्ट पर अब उन्हें कोई छू नहीं सकता। उन्होंने पीट सम्प्रास की स्मृतियों को धुंधला दिया। वे सम्प्रास जिन्होंने अपने शानदार सर्व और वॉली खेल से विंबलडन के हरी घास के मैदान पर सात बार जीत दर्ज़ कर सफलता के नए प्रतिमान गढ़े थे। फेड की ये उपलब्धियां इसलिए भी शानदार हैं कि ये उन्होंने उस उम्र में हासिल की हैं जब अधिकांश खिलाड़ी खेलने की सोचता भी नहीं है। वे कुछ दिन में 36 के हो जाएंगे। उन्होंने अपना आखरी ग्रैंड स्लैम 2012 में जीता था विंबलडन। उसके बाद का समय उनकी असफलताओं का समय था। मरे,राफा और जोकोविच के सामने लगता रहा कि उनका समय समाप्त हो गया है। अब अक्सर उनसे संन्यास के बारे में सवाल किये जाने लगे। पर उन्होंने संयम और धैर्य बनाये रखा,हिम्मत नहीं हारी,खेलते रहे। इस साल शानदार वापसी की। पहले ऑस्ट्रेलियन और अब विंबलडन जीत कर खेल इतिहास की नयी इबारत लिख दी।
********* 
 ओये फेड!तुस्सी रियली रियली ग्रेट हो यार! तेनू लख लख सलाम! 














एक अनिर्णीत संघर्ष जारी है

एक अनिर्णीत संघर्ष जारी है  यकीन मानिए बैडमिंटन चीन और इंडोनेशिया के बिना भी उतना ही रोमांचक और शानदार हो सकता है जितना उनके रहते...