Tuesday, 29 August 2017

चश्मे का भार

       



        भ्रम 
            आसमाँ की ओर 
            थोड़ा उठा सा मुँह 
            उसका 
            ऐसे लगता मानो 
            दो कान 
            और एक नाक 
            चश्मे का भार 
            नहीं सँभाल पा रहे हैं 

         हक़ीक़त
            दरअसल ये उसका चश्मा नहीं 
            उसकी आँखों में 
            छलक छलक जाते 
            अनगिनत सपने हैं  
            जिन्हें संभालने के फेर में 
            ऊंचा हो जाता हैं मुँह 
            और छूट जाती हैं जमीं  
            कि ठोकर खाती है बार बार
            सपने बचाने की एवज में । 
-------------------------------------------
तो क्या दिखने वाला हमेशा सच नहीं होता ?

एक अनिर्णीत संघर्ष जारी है

एक अनिर्णीत संघर्ष जारी है  यकीन मानिए बैडमिंटन चीन और इंडोनेशिया के बिना भी उतना ही रोमांचक और शानदार हो सकता है जितना उनके रहते...